विचारों के यूं तो अपने अपने मायने हैं ( विचारों के मायने ) : जीतेन्द्र मीना

विचारों के यूं तो अपने अपने मायने हैं  

चेहरा साफ दिखा दे वो ही तो आईने हैं  


नये ख्याल भी तो नये विचारों से आते हैं  

कुछ नया कुछ पुराना सिखाकर जाते हैं  


नये विचारों के नये मायने रास्ते अनेक हैं  

ख्यालों में खोने को पुराने विचार अनेक हैं 


जिन्दगी भी तो एक खुद नया विचार है 

जन में बैठ अच्छा बोले यही तो व्यवहार है । 


लेखक / कवि - जीतेन्द्र मीना ' गुरदह '



Post a Comment

0 Comments